किशोरी प्रकरण में महिला जज निलंबित

हरिद्वार ( ब्यूरो) न्याय की देवी के घर में एक किशोरी से हुए कथित अन्याय को लेकर आज बड़ी कार्यवाही की गई है। ताजा जानकारी के अनुसार हरिद्वार न्यायालय में तैनात महिला जज को निलंबित कर दिया गया है। निलंबन की कार्यवाही के बात अब महिला जज पर कभी भी मुकदमा भी दर्ज किया जा सकता है। बताते चलें कि नैनीताल हाईकोर्ट के आदेश पर सोमवार को जिला जज राजेंद्र सिंह ने पुलिस और चाइल्ड वेल्फेयर कमेटी को साथ लेकर सिविल जज के आवास से नैनीताल के पदमपुरी निवासी हेमचंद्र की नाबालिग बेटी को छुड़ाया था। हाईकोर्ट ने एक शिकायत पर संज्ञान लेते हुए यह आदेश दिया था। मुक्त कराई गई किशोरी के मैडिकल में शरीर पर चोट के 20 निशान भी पाए जाने पर उसे चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के सुपुर्द कर दिया गया था। मंगलवार को किशोरी के पिता हेमचंद्र हरिद्वार पहुंचे तथा देर शाम मीडिया से कहा कि उनके परिवार ने कोई शिकायत हाईकोर्ट में नहीं की है। सिविल जज पर लगे आरोपों को उन्होंने बेबुनियाद बताया। हेमचंद्र का कहना था कि उनकी नौ बेटियां हैं और उन्होंने खुद बेटी को सिविल जज के घर पढ़ने के लिए छोड़ा था। किशोरी के पिता के बयान से एक बारगी ऐसा लगा कि शायद इस मामले का पटाक्षेप हो जाये परंतु मंगलवार को ही एडीजे चतुर्थ कोर्ट में किशोरी के बयान दर्ज कराए गए थे जिसको उच्च स्तर पर हुई कार्यवाही में महत्वपूर्ण माना गया। अब महिला जज पर मुकदमे की तलवार लटक गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *